Monthly Archives: April 2014

उन नौजवानों से जो कुछ करना चाहते हैं- मार्ज पियर्सी

Marge+Piercy

प्रतिभा उनके लेखे वही है

जो तुम्हें हासिल होती है तभी जब

उपन्यास छप जाय और उसे

हाथोंहाथ लिया जाय. उससे पहले

जो तुम्हारा सरमाया है वह

महज थकानेवाला विभ्रम,

बुनाई करने जैसा कोई शौक.

 

काम का मायने तभी है

जब नाटक का मंचन हो जाय

और ताली बजाएँ दर्शक.

उससे पहले पूछते रहते हैं दोस्त

कि कब निकल रहे हो

नौकरी तलाशने के लिए.

 

प्रतिभा का पता तभी चलता है उन्हें

जब तुम्हारी अनूठी कविताओं का

तीसरा संकलन आ जाये. इससे पहले

तुम पर इल्जाम मढते हैं पिछड़ने का

कहते हैं अब तक कोई बाल-बच्चा

क्यों नहीं, तुम्हें लफंगा समझते हैं.

 

मनोहर नामों से कला की कार्यशाला

क्यों लगाते हैं लोग, जबकि वास्तव में

सीख पाते हो महज कुछेक तकनीक,

टंकण निर्देश और कुछ भाव-भंगिमाएँ.

क्या कलाकार की कमी सिर्फ इतनी

कि दीवार पर लटकाने के लिए

किसी दंतचिकित्सक या पशुचिकित्सक

की तरह होना चाहिए लाइसेन्स

जो आपको प्रमाणित करे

चाहे काहिल और परपीडक हों और

आपके बनाये दाँत शोरबे में गिर पड़ें

आप कहलाएँगे प्रमाणित दंतचिकित्सक.

 

असली लेखक वही है

जो सचमुच लिखता है. प्रतिभा

एक खोज है ज्वलनशीलता जैसी जो

काम आती है आग लगने-बुझने के बाद.

रचना खुद अपना उपचार है. इसे ही

पसंद करना बेहतर होगा तुम्हारे लिए,

इस बात से बेखबर कि लोग

तुमसे प्यार करें या न करें.

(अनुवाद- दिगम्बर)

Advertisements

बयान जानवरों के — इब्ने इंशा (शेर की तारीफ़)

ibne insha

शेर आए, शेर आए, दौडना !
आजकल हर तरफ शेर घूम रहे हैं !
दहाड़ रहे हैं‌‌‍.
“यह शेरे बंगाल है.”
“यह शेरे सरहद है.”
“यह शेरे पंजाब है.”

लोग भेंडे बने अपने बाड़ों में दुबके हुए हैं.
बाबा हाफीज जालंधरी का शेर पढ़ रहे हैं.

“शेरों को आजादी है
आजादी के पाबन्द रहें
जिसको चाहें चीरें-फाड़ें
खाएँ-पिएँ आनंद रहें.”

शेर या तो जंगल में रहते हैं,
या चिड़िया घर में.

यह मुल्क या तो जंगल है या चिड़िया घर है
या फिर कालीन होगा.
क्यों की एक किस्म शेर की ‘शेरे कालीन’ भी है.

या फिर कागज का होगा.
क्योंकि एक शेर ‘कागजी शेर’ भी होता है.

या फिर ये जानवर कुछ और है.
आगा शेर का पीछा भेड़ का.
हमारे मुल्क में यह जानवर आम पाया जाता है.

शेर जंगल का बादशाह है.
लेकिन बादशाहों का जमाना नहीं रहा.
इसलिए शेरोन का जमाना भी नहीं रहा.

आज कल शेर और बकरियाँ एक घाट पर पानी नहीं पीते.
बकरियाँ सींगों से खदेड़ भगाती हैं.
लोग-बाग उनकी दुम में नमदा बाँधते हैं.

शिकारी शेरों कोमार लाते हैं.
उनके सर दीवारों पर सजाते हैं.
उनकी खाल फर्श पर बिछाते हैं.
उनपर जूतों समेत दनदनाते हैं.

मेरे शेर ! तुमपर भी रहमत खुदा की
तू भी वाज (उपदेश) मत कह.
अपनी खाल में रह.

 

%d bloggers like this: