रघुवीर सहाय की ये कविता वर्तमान दौर पर एक करारा व्यंग है –

आप की हँसी
निर्धन जनता का शोषण है
कह – कर आप हँसे
लोकतंत्र का अन्तिम क्षण है
कह – कर आप हँसे
सब के सब हैं भ्रस्टाचारी
कह – कर आप हँसे
चारो ओर बड़ी लाचारी
कह – कर आप हँसे
कितने आप सुरक्षित होंगे मै सोचने लगा
सहसा मुझे अकेला पाकर फ़िर से आप हँसे

Advertisements
Post a comment or leave a trackback: Trackback URL.

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: