Monthly Archives: April 2009

रघुवीर सहाय की ये कविता वर्तमान दौर पर एक करारा व्यंग है –

आप की हँसी
निर्धन जनता का शोषण है
कह – कर आप हँसे
लोकतंत्र का अन्तिम क्षण है
कह – कर आप हँसे
सब के सब हैं भ्रस्टाचारी
कह – कर आप हँसे
चारो ओर बड़ी लाचारी
कह – कर आप हँसे
कितने आप सुरक्षित होंगे मै सोचने लगा
सहसा मुझे अकेला पाकर फ़िर से आप हँसे

%d bloggers like this: