Monthly Archives: April 2008

फरमाने-खुदा

उठ्ठो, मेरी दुनिया के गरीबों को जगा दो !
कारब-ए-उमरा (अमीरों के महल) के दरों-दिवार हिला दो !
—–इक़बाल
Advertisements
%d bloggers like this: